Speeches

February 22, 2018

Speaking at Suppliers Samvad, in New Delhi

….this engagement, so we have finalized with the consortium of banks an ability to make payments without too much of interface with the railways through giving them a letter of credit. And I am happy to share with you that that has received very good response from the suppliers of goods or services, because their payment will become far more secure, and they will be able to get working capital at very attractive rates. That policy has now been finalized and circulated to all the zones. Companies which supply goods worth more than Rs 10 crores or thereabouts on any contract will initially be eligible for that.. Sorry Rs 10 lakhs! 10 lakhs and above.

We wanted to make sure the small and medium suppliers also who need most working capital support, they get the confidence that with that LC they can supply the goods in time and they will not have any working capital problem. So, 10 lakh and above, we are willing to give a letter of credit. They will have to make a nominal payment for getting that letter of credit and then they can discount that and supply goods to the railways.

Similarly, there were many issues that came up about approval process, speed of approval, time taken for different design drawings which all are being looked at holistically and the railway board is going to simplify all these processes to make them more robust, make them more easy to implement projects faster.

आजकी जो चर्चा हुई है, जो संवाद हुआ है suppliers के साथ, उनके साथ भी कई नए ideas आये जैसे जो products approved  हैं, approved suppliers हैं क्या self-certification को और प्रोत्साहन दिया जा सकता है जिसमें penalty लगायी जाये अगर माल वर्कशॉप में या रेलवे के पास पहुँचने के बाद क्वालिटी डिफेक्ट हो तो heavy penalties लगें लेकिन process simplify हो जाये self-certification के माध्यम से| RDSO approvals में और क्या सुधार हो सकता है उसपर काफी सुझाव आये हैं, reverse auction किधर चल सकता है किधर नहीं चल सकता है, कोई वह one-size-fits-all नहीं होता है, तो ऐसा भी नहीं है कि हम अगर reverse auction शुरू करें तो हर चीज़ में कर दें, जहाँ viable है वहां पर करना है कई जगह नहीं भी प्रैक्टिकल होता है, developmental orders का system क्या रहेगा इसपर कई लोगों को सुझाव आये| फिर आज एक website launch करेंगे जिसमें आप भी आमंत्रित हैं जिसमें payments जो हैं लोगों के वह हम open कर देंगे for public कि payments किस-किस की pending है, क्यों pending है और कब हुई है|  Public doesn’t mean ordinary public, to all the suppliers.

तो अगर किसी की पेमेंट में विलंभ हो रहा है, डिले हो रहा है तो he will immediately have a right to know why his payment is getting delayed. There will be proper tracking of all the payments, they are all made in due date in order of supply, so that one is not favoured over the other and it can become a very smooth payment facility for all our suppliers.

Long-term contracts, short-term contracts, what are the intricacies of that, what improvements need to be that… price variation clause is being discussed whether we really, how much of it is required, what items it is required. My own sense is, with all of this, we will make the procurement process much more simpler and effective, giving us far more competitive prices and expanding the supplier base of the railways. Going forward, this will be a very critical stakeholder consultation which will help us further improve the efficiency in the railway system, a process that Mr Lohani had started earlier in airlines also. He is continuing that in the railways with different stakeholders at different levels.

By and large, we have received very good response from all the suppliers and we hope that this supply chain will, going forward, become even more robust. Another important issue that I just.. I had flagged off some of it yesterday, today the file has been fully finalized on the changes that we are doing to the recruitment, railway recruitment process. You may be aware that the Group D, Level-1 recruitment, is happening after a gap of about 4 years. In the intervening period, in the last 3-4 years, certain changes had been suggested in the process, one of which was that the age relaxation which had started some 20 years ago, we should gradually wean it away. One of which was that we should have ITI or NCVT also as a criteria, and certain changes like that were decided sometime back, and accordingly this recruitment process was commenced.

After the recruitment process commenced, certain issues were brought to my attention, particularly, with regard to the fact that because this is happening after many years, many candidates who otherwise had normally expected to become eligible to apply, because of the age restriction which we were bringing in now and which was not adequately known in advance, a lot of candidates were getting left out, so we had once again reintroduced the relaxed age criteria. I had made it known about two days back.

Yesterday also I had informed you that that fees, the idea behind the fees was that we had a lot of applicants who were applying, but not appearing for the examination. Whereas railways was providing the whole infrastructure, preparing the whole infrastructure for examination in 15 languages, as I said we are doing examination in 15 languages. So, it’s a huge infrastructure created and many students take it too casually, so therefore, we increased from 0 to 250 and from 100 to 500 for non-exempt category, the fees, but with a proviso that that 400 increase and 250… both will be refunded to those candidates who appear for the exam. So, only serious candidates apply for this examination. So I think that is also a very good beginning to bring about some level of seriousness amongst the candidates.

Another issue that came to our notice was that the educational qualification which earlier used to be 10th standard, we had strengthened that qualification to make it 10th standard, plus ITI or NCVT in several of the categories of candidates. Now, this was not known to the people in advance, so it came as a surprise. And, therefore, we felt it was unfair to candidates who had been preparing for many months or years for this recruitment to open that they would now become ineligible for most of the categories of recruitment, without having been given advance notice that such a change is going to take place.

So, it would have been better if we had made this change known in advance and added this criteria well in advance for candidates to get a chance to procure an additional ITI or NCVT qualification. In any case, railways does a robust training programme for all of them which will continue. In fact, that we are planning to strengthen with the commencement of the new university by middle of this year. So we are already relooking at that skilling programme and the training programme to make it far more robust so we get better quality of people, ready when we take them in into the railways after recruitment and training.

So, we have decided that for this exam, we will not insist on that additional ITI or NCVT qualification. For entire Group D, we are reverting back to the original criteria, which was existing earlier. Minimum qualification will be 10th standard, which it is as per DoPT and which is what the railways was also following.

कई जानकारियां हमारे समक्ष आई, एक बार जब हमने रिक्रूटमेंट का प्रोसेस शुरू किया तो हमारे समक्ष यह जानकारी आई कि age को जिसको रिलैक्सेशन कुछ 18-20 साल पहले दिया गया था और जिसका बोर्ड ने निर्णय लिया था कि आहिस्ते-आहिस्ते उसको रिलैक्सेशन को ख़त्म किया जाए| तो दो साल पहले यह निर्णय हुआ कि हर साल एक-एक साल रिलैक्सेशन कम किया जाये, उसके तहत इस साल हमने दो साल का रिलैक्सेशन हटा दिया था, उम्र का|

लेकिन इसकी जानकारी पहले से न होने के कारण कई कैंडिडेट अपने आपको एलिजिबल महसूस करते थे लेकिन उनको जब advertisement आया रिक्रूटमेंट का तो ध्यान आया कि अब वह एलिजिबल नहीं है| और इसमें कई सामान्य युवा-युवतियों को जिनको एक उम्मीद थी कि इस रेलवे रिक्रूटमेंट एग्जामिनेशन में उनको भी मौका मिलेगा पार्टिसिपेट करने का उनको नहीं मिल रहा था| तो यह हमने निर्णय लिया कि इस एग्जाम के लिए फिर से वह रिलैक्सेशन दी जाये और अगर आगे रिलैक्सेशन हटानी है तो पहले से सबको पता चल जाये और उसके बाद वह ग्रेजुअली जो डीओपीटी के normal age है उसपर लाया जाये, लेकिन इस एग्जामिनेशन के लिए जो 89,406 पोस्ट अभी advertise हुई हैं इसमें जो लेवल-1, ग्रुप डी, ग्रुप सी है, उसमें जो रिलैक्सेशन पहले मिलती थी वह रिलैक्सेशन पुनः स्थापित कर दी है|

इसी प्रकार से जो फीस थी, कल मैंने बताया कि 100 रुपये की फीस को हमने 500 किया था उसके पीछे हेतु यह था कि कई लोग exam में अपना दाखला देते थे, फॉर्म भरते थे लेकिन फिर exam लिखने नहीं आते थे तो जो पूरी बड़ी व्यवस्था और ढांचा बनाया जाता था examination का वह waste हो जाता था, और खर्चा भी waste होता था| तो serious candidates आये exam में उसके लिए 100 का 500 किया गया लेकिन यह गरीब तबके के लोग हैं इनका, नए नौजवान हैं जो नौकरी के लिए apply कर रहे हैं उनको बोझा ज्यादा न हो, इसलिए जब वह examination लिखने आयेंगे तो उनको 400 रुपये फिर से reimburse कर दिया जायेगा, उनके खाते में भेज दिया जायेगा| और जो exempt category में 250 रुपये ले रहे हैं वह तो पहले से announce था कि जब वह exam लिखने आयेंगे तो उनको reimburse कर दिया जायेगा वापिस 250 रुपये|

तो हेतु यही था इससे पहले से 250 में तो लिखा ही था कि आपको वापिस मिल जायेगा जब आप  exam लिखने आओगे, जब 100 का 500 किया तो उसमें वह बात रह गयी थी, उसको हमने clarify कर दिया कि उनको भी वह 400 रुपये वापिस मिल जायेंगे| साथ ही साथ यह exam 15 भाषाओँ में होगा, computer-driven होगा, एकदम transparent तरीके से होगा, पारदर्शी तरीके से  और जो application form है उसमें signature आदमी कोई भी भाषा में कर सकता है, वह कोई अंग्रेजी या हिंदी में होना ज़रूरी नहीं है – कोई दक्षिण भाषा में, कन्नड़ में, तेलुगु में, किसी में भी sign कर सकता है|

एक और विषय जो हमारे ध्यान आया था कि कुछ समय पहले ऐसा निर्णय लिया गया कि skill development आजकल बढ़ रहा है, ITIs, NCVT बढ़ रही है तो आगे से कुछ categories के लिए 10वीं के साथ ITI और NCVT को भी जोड़ दिया जाये, qualification criteria के लिए जिससे थोड़ा बहुत लोगों को जानकारियां इन विषयों की रहे और उसके बाद रेलवे तो ट्रेनिंग करती है| लेकिन यह निर्णय जनता तक पहुंचा नहीं था और 4-5 दिन पहले जब इश्तेहार आया तब पहली बार लोगों को मालूम पड़ा| अब ऐसे काफी नौजवान थे, युवा-युवती जिनको यह जानकारी न होने के कारण वह तैयारी कर रहे थे अपने इस एग्जामिनेशन के लिए, लेकिन ITI या NCVT का उन्होंने course नहीं किया था जानकारी न होने के कारण| तो मुझे बड़ी जाइज़ लगी यह बात| हमने board members ने, सबने discuss की आपस में Secretary, staff, chairman, railway board, बाकी सब अधिकारियों ने और मेरे साथ भी चर्चा की|

और यह एक संवेदनशील सरकार है, यह सरकार ध्यान रखती है कि एक गरीब आदमी, नौजवान, युवा-युवतियों के हित की हमको सबसे ज्यादा चिंता रहती है| और मुझे भी लगा कि अगर उनको पहले से जानकारी नहीं थी तो कैसे वह अपने आपको तैयार करते इन positions के लिए| तो जो पहले सिस्टम था कि 10वीं कक्षा के बाद आप apply कर सकते हैं यह Level-1 की positions के लिए, Group C, Group D, वह हम पुनः स्थापित कर रहे हैं इस exam के लिए, 10वीं कक्षा के लोग apply कर पाएंगे हर एक category के लिए जो C और D में हैं उसके लिए eligible होंगे, transparent, पारदर्शी तरीके से उनका selection देश भर में होगा| और उसके बाद रेलवे का जो ट्रेनिंग प्रोग्राम है उसको हम और दुरुस्त करेंगे, और मज़बूत बनाएंगे, उसमें और modules डालकर जो select हो जायेंगे उनको और ज्यादा अच्छी ट्रेनिंग मिले जिससे वह देश की और रेलवे की सेवा और अच्छी तरीके से कर सके, यह भी निर्णय अभी बोर्ड ने और हमने मिलकर ले लिया है|

तो बहुत suddenly लोगों तक जाने के बाद उनको समय न मिलने के कारण संवेदना अपनी दिखाते हुए इस सरकार ने निर्णय लिया है कि इस exam के लिए 10वीं कक्षा  सब categories के लिए रहेगी, आगे का क्या निर्णय बोर्ड लेता है वह पहले से जनता को बता दिया जायेगा जिससे आगे के लिए बच्चे अपनी तैयारी उस हिसाब से किस category में जाना चाहें उसके लिए आगे से कर सकें वह बाद में निर्णय अलग से लेकर आप सबको बताया जायेगा|

तो जैसा मैंने कहा age relaxation वह तीन साल की जो दी गयी थी वह अभी कायम रहेगी, 10वीं कक्षा या ITI या NAC certificate जो NCVT देता है, तीनों में से कोई भी एक qualification हो – 10th or ITI, or NCVT का NAC certificate (National Apprenticeship Certificate). तीनों में से कोई भी एक criteria अगर व्यक्ति fulfill करता है तो वह एलिजिबेल होगा इस एग्जाम में पार्टिसिपेट करने के लिए और सब पोस्ट्स के लिए| यह प्रमुखतः completely decide कर देता है, इसके कारण जो समय-सीमा है जिसमें लोगों ने apply करना है उसको भी suitably बढ़ा दी जाएगी| तो दो हफ्ते के लिए लगभग हमें बढ़ानी पड़ेगी, 15 दिन का हम इस समय-सीमा को, 15 दिन, 18 दिन जो भी समय-सीमा बढ़ानी पड़ेगी वह जल्द ही नोटिफाई करके उसका इश्तेहार भी दे देंगे और वेबसाइट पर भी डाल देंगे| तो जो एप्लीकेशन की डेट है उसको accordingly उतने दिन, 2 हफ्ते-ढाई हफ्ते के लिए एक्सटेंड कर दिया जायेगा|

तो मैं समझता हूँ इस पूरे विषय में सरकार ने युवा-युवतियों की, जनता जनार्दन की जो एक उम्मीद है कि उन सबको मौका मिले, सभी को पर्याप्त तैयारी का मौका मिले, सभी को एक ही लेवल पर, एक ही फुटिंग पर मौका मिले रेलवे में भर्ती के लिए, यह स्थापित कर दिया गया है और इसकी सराहना मुझे लगता है युवा-युवतियों में काफी रहेगी कि इस सरकार ने जो जनहित में है वैसा निर्णय लेने में विलंभ नहीं किया|

बहुत-बहुत धन्यवाद|

 

प्रश्न-उत्तर

प्रश्न: सर यह जो आईटीआई इसमें इन्क्लूड किया गया था, when was it done and what was the rationale behind it?

उत्तर: यह लगभग जुलाई 2017 में यह सोचा गया कि क्योंकि skill development को बहुत प्रोत्साहन दिया जा रहा है तो कुछ categories में 10th के साथ-साथ ITI और NCVT, दोनों में से एक additional qualification भी ली जाये| लेकिन चूँकि यह तभी सबको जानकारी नहीं दी गयी तो normal course में तो पहले से चला रहा था 10वीं क्लास तो suddenly people were taken by surprise इश्तेहार जब आया recruitment का तो लोगों को एकदम sudden surprise मिला| तो यह मुझे लगा कि ठीक नहीं है, अगर हमें change करना है तो हमें साल भर या सवा साल पहले यह सूचित कर देना चाहिए कि इस समय के बाद से यह apply करेगा तो जिन-जिनको interest है फिर वह अपनी 10वीं के बाद भी इसको additional qualification के रूप में तैयारी कर सकें|

In all fairness, आखिर कल को लाकर आप या मैं भी apply कर रहे हैं जॉब के लिए और अभी तक का एक सिलसिला चले आ रहा है कि यह qualification होगी, और जिस दिन इश्तेहार आता है बोलते हैं 15 दिन के अन्दर आपको भरना है या एक महीने में भरना है, लेकिन अब वह qualification नहीं, additional qualification भी चाहिए| तो काफी बड़े वर्ग के लिए एक disadvantage हो जाता है, 15 दिन में तो he cannot do that course, तो जो course की समय-सीमा है उतना कम से कम advance notice से यह जनता के समक्ष रखना मुझे लगता है सरकार का दायित्व बनता है| और यह बात को हमने appreciate किया है और उसको इसलिए rectify करके 10th standard जो पहले qualification थी वह पुनः स्थापित कर दी है, आगे अगर हम कोई change करते हैं, बोर्ड इसपर निर्णय लेगा आगे के लिए, तो उसको पहले से जनता को बताकर और adequate time देंगे जिससे वह उतने समय में अपनी तैयारी अगर वह चाहते हैं उस category के लिए तो तैयारी कर सकते हैं, अगर उसके लिए नहीं चाहते हैं तो हर category में तो नहीं चाहिए, कुछ categories में चाहिए, कुछ में 10th था| तो अब सब categories के लिए इस exam में 10वीं कक्षा पर्याप्त होगी|

प्रश्न: Sir, I have a supplier-demand question, you have always focused on economies of scale, but you have problems on cartelization in the big place, not allowing the small…. Sir any concrete steps you are taking in this Suppliers Samvad to how to break that?

उत्तर: ऐसा है कि थोड़ा बहुत cartelization की जानकारी एक-दो चीज़ों में मालूम पड़ी क्योंकि ज़ोनल लेवल पर हमने कुछ जब decentralize किया तो लोगों को ध्यान आया कि एक ज़ोन में नहीं मिला तो दूसरे में बिड करेंगे, दूसरे में नहीं तीसरे में, और उसमें थोड़ी जानकारी आई कि प्राइस सभी चीज़ों में बहुत दो-पांच पैसे आगे पीछे, मुझे लगा इतना परफेक्ट तो बिडिंग हो नहीं सकता है कि सभी का दाम दो-पांच पैसे आगे पीछे हो| कोई 40 रुपये की चीज़ थी, कोई दो पैसा कम दो पैसा ज्यादा|

तो उसी की वजह से आज यह संवाद रखा गया ऐसी कुछ चीज़ें जब सामने आई, तो ऐसे जो-जो विषयों में हमें ध्यान में आते जा रहा है कि शायद कुछ हमने तो अपनी तरफ से ईमानदारी से अच्छा किया कि भाई लोकल लेवल पर प्रोक्योर होगा आसन हो जायेगा, debureaucratize होगा लेकिन उसका गलत नाजायज़ फायदा भी कुछ जगह पर उठाने की जानकारियां बोर्ड को मिली, फिर मेरे साथ discuss हुआ| तो उन सब चीज़ों को अभी rectify करने के लिए इसपर एक holistically view ले रहे हैं और उस view का एक हिस्सा आजका संवाद है कि इनकी सब चर्चा से जो विषय निकलेंगे उसपर भी फिर एक पूरा procurement policy में सुधार किया जा सकता है|

प्रश्न: Are you viewing a new procurement policy?

उत्तर: Not a new procurement policy, improvements to our policy. By and large, the railways has a very robust policy and which has held us in good stead for many years. पर हम चाहते हैं कि और नए suppliers भी आयें, और नयी technologies आयें, better quality के लोगों को attract हो| उदाहरण के लिए पेंट, अब जब पेंट की specs देखी और जो पेंट  सप्लाई हो रहा है वह देखा उसमें ध्यान में आया कि कोई पेंट लास्ट ही नहीं करता है, एक बारिश आती है और back to square one. तो पेंट के specs को क्या सुधार कर सकते हैं जिससे अच्छा पेंट रेलवेज खरीदे और उसमें भी हम क्या पांच साल की गारंटी ले सकते हैं|

क्योंकि मैंने कल ही बताया कि एक निर्णय लिया है, अभी मेरी कावेरी एक्सप्रेस में मैं जाकर आया जिसमें सभी क्लासेज – first AC, 2nd AC, 3rd AC, second sleeper और general unreserved, सभी classes के कोच  हैं उसमें और मैं सभी classes के लोगों से, जनता से मिलकर आया और सब देखकर आया ट्रेन को, अन्दर बाहर, जिसके बाद यह निर्णय लिया है कि अब सब कोचेस को हम repaint करेंगे बाहर से, पर वह repaint क्या पुराने तरीके से करना है या अच्छे तरीके से, तो तय किया कि नहीं अच्छे पेंट लेंगे, हो सकता है थोड़ा खर्चा बढ़ेगा लेकिन क्वालिटी अच्छी होगी, पांच साल तक हमें देखना नहीं पड़ेगा|

Similarly, interiors को patchwork थोड़ा-थोड़ा मरम्मत करने के बदले क्यों न अच्छी तरीके से interiors किये जायें, और क्या सिर्फ राजधानी, दुरंतो, शताब्दी के करना हमारी ज़िम्मेदारी है या unreserved, general compartment को करना है? तो हमारी प्राथमिकता है कि वह general unreserved compartment जो गरीब से गरीब व्यक्ति की सेवा करता है उसको करना वह प्राथमिकता पहली है| सबको करना है, ऐसा नहीं कि राजधानी को बिगड़ने देंगे, पर ऐसा नहीं कि सिर्फ वह हो गयी तो हमारी ज़िम्मेदारी से हम मुक्त हो गए| तो हर एक जो कोच आएगा, हर श्रेणी का, periodic overhaul के लिए हर 18 महीने बाद जाता है, उसको repaint किया जायेगा, exterior को अच्छे पेंट से और interiors को सुधार किया जायेगा जिससे जन यात्रियों को सुविधा अच्छी मिल सके|

प्रश्न: बिहार-यूपी की ट्रेनों में क्या…

उत्तर: विशेष ध्यान दिया जायेगा बिहार-यूपी की ट्रेनों में जब-जब वह Periodic Overhaul (POH)  के लिए आएँगी, स्वाभाविक है जब POH के लिए आएगी तभी यह कर सकते हैं, नहीं तो अभी trains को मैं withdraw करके काम शुरू करूँ तो आप लोग तो धरना दे दोगे मेरे दफ्तर पर|

प्रश्न: बिहार सफ़र कब करेंगे, बिहार की ट्रेनों में एक बार आप…?

उत्तर: मुझे निमंत्रण नहीं आया अभी तक बिहार से ट्रेन में आने का तो ज़रूर करेंगे, अब मौका अलग-अलग जगह मिला है, दिल्ली किया है, राजस्थान किया है, हरियाणा किया है, चंडीगढ़ किया है, महाराष्ट्र में किया है, कर्नाटक में किया है, तो अलग-अलग जगह जा रहा हूँ, हम कोई भेदभाव नहीं करते किसी इलाके के साथ|

प्रश्न: सर वैक्यूम टॉयलेट्स  ?

उत्तर: वैक्यूम टॉयलेट्स का एक बहुत अच्छा निर्णय मिस्टर लोहानी ने आने के बाद उसको गति दी है, बायो-टॉयलेट्स में एक smell की प्रॉब्लम, कुछ क्लोग्गिंग की प्रोब्लेम्स हमारे समक्ष आई थी| तो इंजीनियरिंग ने उसको सुधार तो किया है, कुछ उसमें चेंजेस….

सेक्रेटरी: बायो-टॉयलेट्स में smell की प्रॉब्लम रही है तो इसका एक हल तो यह निकाला है कि हम एक induce draft introduce करें, normally induce air draft introduce करें toilets में, उसका भी फायदा हो रहा है, कई जगह experiments हो रहे हैं| दूसरा यह कि बायो-टॉयलेट्स के साथ-साथ वैक्यूम का भी उसमें प्रबंध किया जाये जिससे suction proper हो, यह हमने trail basis पर ऑर्डर किया है, 500 कोचेस में| तो उसका देखेंगे हम लोग प्रभाव कैसा है उसके बाद उसको ज़रूरत पड़ी तो बढ़ावा देंगे उसको, पर एक बात यह है कि बायो-टॉयलेट्स लगाने से ही बहुत major shift आया है, पहले जो हालत थी उससे ज़रा compare करें और जो बायो-टॉयलेट्स हैं आपको ट्रैक भी साफ़ मिलेंगे और human droppings वाली प्रॉब्लम ख़त्म होगी, तो थोड़ी समस्याएं हैं उन समस्याओं को हम लोग दूर करेंगे| और corrosion होता था बहुत ज्यादा, वह भी ख़त्म होगा, 500 कोचेस में trail पर करेंगे वैक्यूम वाला, हवाई जहाज़ की तरह वैक्यूम वाला|

बहुत-बहुत धन्यवाद|

Next Speech

February 22, 2018 Speaking at UP Investor Summit, in Lucknow

Subscribe to Newsletter